इन 4 योजनाओं में निवेश करने पर हो सकता है FD से भी ज्यादा फायदा

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा रेपो रेट में बढ़ोतरी का लाभ फिक्स्ड डिपॉजिट निवेशकों को मिला है। वास्तव में, पिछले साल मई से लेकर फरवरी 2023 तक RBI ने रेपो रेट में कुल 6 बार वृद्धि की, जिसके परिणामस्वरूप लगभग सभी बैंकों ने अपने फिक्स्ड डिपॉजिट ब्याज दरों को बढ़ा दिया।

वर्तमान में कई बड़े बैंक अपनी FD योजनाओं पर 7.5 फीसदी तक की ब्याज दरें प्रस्तावित कर रहे हैं।इस लिस्ट में स्मॉल फाइनेंस बैंक भी पीछे नहीं हैं, क्योंकि इनमें से कुछ तो FD निवेशकों को 9 फीसदी से ज्यादा ब्याज दर ऑफर कर रहे हैं. भले ही फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाली ब्याज दर आसमान छू रही है, लेकिन कुछ ऐसी योजनाएं (स्मॉल सेविंग्स स्कीम) भी मौजूद हैं, जो फिक्स्ड डिपॉजिट से बेहतर ब्याज दर पर अच्छा रिटर्न ऑफर कर रही हैं|

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट (POTD) फिक्स्ड इनकम की तलाश करने वाले निवेशकों के लिए एक सुरक्षित विकल्प है|इसमें बेहतर ब्याज दर के साथ निश्चित लाभ प्राप्त होता है।निवेश अवधि को लेकर POTD में चार विकल्प मिलते हैं, जिसमें 1, 2, 3 और 5 साल के लिए डिपॉजिट शामिल हैं. इसमें कम से कम 200 रुपए से शुरुआत की जा सकती है और उसके बाद राशि 200 रुपए के मल्टीपल्स में ही होनी चाहिए. जुलाई-सितंबर 2023 तिमाही के लिए, 5 साल की पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट पर ब्याज दर 7.5% है |

नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (एनएससी) पांच वर्षों की लॉक-इन अवधि के साथ उपलब्ध है। इस योजना में एकल, संयुक्त या किसी नाबालिग व्यक्ति द्वारा निवेश किया जा सकता है।यह योजना आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत आयकर कटौती (इनकम टैक्स डेडक्शन) के लिए भी योग्य है| यहाँ ब्याज का भुगतान नहीं किया जाता, बल्कि फिर से निवेश किया जाता है।

इस दौरान दोबारा निवेश किया गया ब्याज भी धारा 80C के तहत कटौती के लिए पात्र है (5वें वर्ष को छोड़कर). जुलाई-सितंबर 2023 तिमाही के लिए 5 साल की नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट स्कीम पर ब्याज दर 7.7% है. आरबीआई फ्लोटिंग रेट सेविंग्स बॉन्ड आरबीआई फ्लोटिंग रेट बचत बॉन्ड पर ब्याज दर एनएससी की तुलना में 0.35% ज्यादा होने के साथ 8.05% है. RBI बचत बांड पर ब्याज दर की साल में दो बार समीक्षा की जाती है. इन बॉन्ड में न्यूनतम निवेश 1,000 रुपये से शुरू होता है, जबकि अधिकतम राशि की कोई सीमा नहीं है. बांड की निश्चित अवधि सात साल है.प्रति वर्ष, ब्याज राशि का भुगतान 1 जनवरी और 1 जुलाई को अर्धवार्षिक रूप से किया जाता है।

सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम (SCSS) पोस्ट ऑफिस की इस योजना में केवल सीनियर सिटीजन्स या सेवानिवृत्त व्यक्ति ही निवेश कर सकते हैं। SCSS का लाभ 60 साल से अधिक उम्र के किसी भी व्यक्ति को डाकघर या बैंक से हो सकता है। इस योजना की अवधि पांच साल है, जिसे योजना के मैच्योर होने पर तीन साल तक बढ़ाया जा सकता है। SCSS में ब्याज का भुगतान हर तीन महीने में किया जाता है और इस पर कर लग सकता है। योजना पर मिलने वाली ब्याज दर की हर तीन महीने में समीक्षा की जाती है। इस योजना में न्यूनतम 1,000 रुपये और अधिकतम 30 लाख रुपये का निवेश किया जा सकता है।जुलाई-सितंबर 2023 तिमाही के लिए SCSS की ब्याज दर 8.2% है|

अपने लक्ष्यों को ध्यान में रखकर किसी एक्सपर्ट से सलाह लेने के बाद ही योजना में निवेश की प्लानिंग करें और पैसा लगाएं.

Please follow and like us:

Leave a Comment

[askmeanythingpeople]