Business ideas: आयरन की गोली’ के नाम से फेमस है ये फल, जानिए उन्नत किस्में और खेती का तरीका

Business ideas: आयरन की गोली' के नाम से फेमस है ये फल, जानिए उन्नत किस्में और खेती का तरीका…
आयरन की गोली’ के नाम से फेमस है ये फल, जानिए उन्नत किस्में और खेती का तरीका…

Business ideas:

Business ideas:करोंदा की खेती करोंदा खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है. यह एक खट्टा फल है जिसे अंग्रेजी में कैरिसा कारैंडस कहते हैं। फल में आयरन की मात्रा अधिक होने के कारण इसे “आयरन टेबलेट” कहा जाता है। देश में कहीं भी बिना किसी समस्या के खेती संभव है। भारत के अलावा यह दक्षिण अफ्रीका और मलेशिया में भी उगाया जाता है।

औषधीय गुण..

क्रैनबेरी फलों का स्वाद खट्टा और कसैला होता है। चूंकि यह आयरन का एक समृद्ध स्रोत है, इसलिए यह एनीमिया के इलाज में महिलाओं के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है। यह फल बहुत उपयोगी है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सिडेंट, एंटीअल्सर, एंटीडायबिटिक, हेपेटोप्रोटेक्टिव, कार्डियोवैस्कुलर, मलेरिया-रोधी, कृमिनाशक, एंटीवायरल और एंटीस्कोरब्यूटिक गुण होते हैं।

मिट्टी एवं जलवायु..

आईसीएआर के अनुसार, क्रैनबेरी को सभी प्रकार की मिट्टी में आसानी से उगाया जा सकता है। 10 पीएच वाली मिट्टी में आसानी से उगता है। पुनः रोपण की शुरुआत में कुछ देखभाल की आवश्यकता होती है।

किस्मों..

क्रैनबेरी की मुख्य किस्में कोंकण बोल्ड, CHESK-II-7, CHESK-V-6 आदि हैं। पौधे बीज से उगाए जाते हैं। इसके अलावा मारू गौरव, थार कमल, पंत सुवर्णा, पंत मनोहर और पंत सुदर्शन हैं।

रोपण एवं सिंचाई..

अगस्त-सितंबर में पूरी तरह से पके फलों के बीज लें और उन्हें शीघ्र ही नर्सरी में बो दें। बुआई जुलाई-अगस्त में करनी चाहिए. जब पहले कुछ वर्षों में नाइट्रोजन का उपयोग किया जाता है, तो पौधा तेजी से बढ़ता है और जल्द ही झाड़ीदार हो जाता है। नए बगीचे को गर्मियों में हर 7-10 दिन और सर्दियों में हर 12-15 दिन पर पानी देना चाहिए। इसमें कीट एवं बीमारियाँ कम होती हैं।

मई-जून में 50x50x50 सेमी. आकार के गड्ढे खोदें. गड्ढे के एक हिस्से को ऊपरी मिट्टी से और तीन हिस्सों को 20 किलोग्राम सड़ी हुई गाय की खाद से भरें। फिर बीच में पौधे लगाएं. जून-जुलाई में 2×2 मीटर की दूरी बनाए रखते हुए पौधे लगाएं। सिंचित क्षेत्रों में फरवरी-मार्च में भी पौधे रोपे जा सकते हैं।

फसल और उपज..

करोंदा के पेड़ तीसरे वर्ष से खिलते और फल देते हैं। फूल मार्च में शुरू होता है और जुलाई तक जारी रहता है। फल जुलाई से सितम्बर तक पकते हैं। फलों की तुड़ाई 3 से 5 बार की जा सकती है और औसत उपज 25-40 किलोग्राम प्रति पौधा हो सकती है।

दोस्तों आज की जानकारी आपको कैसी लगी? हमें कमेंट बॉक्स में बताना न भूलें। यदि इस आर्टिकल के बारे में आपके कोई प्रश्न हैं, तो कृपया हमें बताएं।
और कृपया इस पोस्ट में दी गई जानकारी को अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और ट्विटर जैसे सोशल नेटवर्क पर शेयर करें। सायद आपके एक शेयर से किसी का काम बन जायेगा
आपको और भी आर्टिकल के बारे मै जानना है तो यह क्लिक करे आपको यह पर आपको सभी प्रकार के आर्टिकल मिलेंगे बिजनेस रिलेटेस.

Please follow and like us:

Leave a Comment

Your question is saved and will appear when it is answered.

Be the first to ask!